रवि रौशन कुमार

विचार दुनियाँ बदल सकती है

9 Posts

6 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 24006 postid : 1181481

भारत को ब्रांड बनाने के चक्कर में कब नरेन्द्र मोदी खुद ब्रांड बन गये पता ही नही चला

Posted On: 27 May, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मोदी सरकार के दो वर्ष पुरे होने पर जिस प्रकार विभिन्न संचार माध्यमों से उपलब्धियों का ढिंढोरा पीटा जा रहा है इसके औचित्य का निरीक्षण अनिवार्य है. क्योंकि पिछले दो वर्षों के दौरान सरकार के द्वारा जितनी भी योजनायें लागू की गयी उसके प्रचार-प्रसार हेतु पूर्व से ही बड़े पैमाने पर विज्ञापनों का सहारा लिया जा रहा है. भारत को ब्रांड बनाने के चक्कर में कब नरेन्द्र मोदी खुद ब्रांड बन गये पता ही नही चला. इन्टरनेट, मोबाइल, टीवी, अख़बार जैसे जन संचार माध्यमों से जिस प्रकार प्रधानमंत्री की ब्रांडिंग की जा रही है वो किसी से छुपी नहीं है. सरकारी खजाने से सैकड़ो करोड़ रूपये विज्ञापन पर खर्च किये जा रहे हैं. वैसे शुरुआती एक-दो वर्षों में किसी सरकार के कार्यों का मूल्यांकन नहीं किया जा सकता और न ही इस आधार पर उनको फेल या पास का प्रमाण-पत्र दिया जा सकता. अगर देखा जाये तो अटल सरकार से लेकर मनमोहन सरकार तक शुरुआती वर्षों में ही अच्छे कार्य किये गये. प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, भारत निर्माण, मनरेगा, सूचना का अधिकार कानून जैसे दर्जनों योजनायें शुरुआती वर्षों में ही अस्तित्व में आया. परन्तु आज इसके क्रियान्वयन की क्या स्थिति है सब जानते हैं. योजनाओं में हुई अनियमितता और घोटालों से हम सब वाकिफ हैं.
लोकतंत्र में व्यक्ति विशेष का महत्त्व नहीं होता और होना भी नहीं चाहिए. लेकिन वर्तमान में प्रत्येक राजनितिक दलों के भीतर व्यक्ति पूजा की नकारात्मक प्रवृति का चलन बढ़ा है. चाहे हो सोनिया-राहुल के प्रति वफ़ादारी निभाने के लिए कार्यकर्ताओं से हलफनामा भरवाने की बात हो या शहरी विकास मंत्री सहित अधिकांश मंत्रियों द्वारा मोदी को भगवान के द्वारा भेजा गया दूत की संज्ञा दिया जाना. इतना ही नहीं विभिन्न क्षेत्रीय पार्टियों में भी व्यक्ति पूजा का स्पष्ट रूप देखने को मिलता है दक्षिण में जयललिता के प्रति उनके मंत्रियों और नेताओं का नतमस्तक होना इसका प्रमाण है. अतः राजनितिक पार्टियों के भीतर भी लोकतंत्र का होना आवश्यक है. दल में सभी के आत्मसम्मान और स्वाभिमान का ख्याल रखा जाना चाहिए.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rameshagarwal के द्वारा
May 27, 2016

जय श्री राम रविजी हर एक सरकार को अपने कार्यो के लिए अपनी उपलब्धियो को बताना अनिवार्य होता डालो में लोकतंत्र के लिए कुछ नहीं किया जा सकता व्यक्ति पूजा आम बात है ममता जिस तरह इतने आरोपों के साथ दुबारा आ गयी लोकतंत्र के लिए कला दिन है चुनाव आयोग को कुछ नियम बनाने पड़ेगे.वैसे सुधार की गुंजाइश कम क्योंकि नेहरूजी ने नीव ही ऐसी डाली थी.

jlsingh के द्वारा
May 28, 2016

आदरणीय रवि जी, आप सही कह रहे हैं, पर के किया जाय व्यक्ति पूजा हमारे खून में समय हुआ है. सबका अपना अपना स्वार्थ है और आप जानते ही हैं की सुर नर मुनि सब की यह रीति, स्वारथ लागि करहीं सब प्रीती. सादर!


topic of the week



latest from jagran